‘अनैतिक गतिविधियों से दूर रहें पत्रकार, विशेष रूप से नए पत्रकार’

0
434
पत्रकारिता में पुराने लोगों ने बहुत संघर्ष किया है और कुछ लोग आज भी संघर्ष ही कर रहे हैं। आज भी उनका नाम है लोगों की नजर में बहुत कीमत है उनकी। ग्लैमर भले न हो मगर ठोस नाम है। इज्जत है स्वाभिमान है। लेकिन पिछले पांच-छह सालों से देखने में आ रहा है कि जो लोग पत्रकारिता में आ रहे हैं उन्हें पैसा कमाने की भूख है। ऐसे दर्जनों पत्रकारों को मैं व्यक्तिगत रूप से जानता हूं जिन्होंने कभी खबर को लेकर न पैसा लिया न कोई डीलिंग कि, न किसी का काम कराकर पैसा लिया । वो अपनी तनख्वाह में अपने परिवार का गुजारा करते हैं और आज भी संघर्ष ही कर ही रहे हैं लेकिन कभी अनैतिक रूप से पैसा कमाने की कोशिश नहीं की।
यह बात मैं इसलिए लिख रहा हूं कि यह जो लड़का पुलिस ने पकड़ा है सौरभ श्रीवास्तव । वो कई अखबारों में काम कर चुका है। रिपोर्टिंग की है। बीट देखी है। लेकिन पैसा कमाने के लिए लोगों को मकान दिलाने के नाम पर अवैध वसूली करता था। पकडा गया। गलत काम से कभी मंजिल हासिल नही की जा सकती है।
कुछ पुराने अब नए लोगों के साथ डीलिंग कर रहे हैं, खबरों के नाम पर पैसा ले रहे हैं, प्रेस कॉन्फ्रेंस में लोगों से वसूली करते हैं उनके कारण पूरी पत्रकारिता बिरादरी बदनाम हो रही है ऐसे लोगों पर जरूर अंकुश लगना चाहिए.
भोपाल में जो पत्रकारिता के नाम पर संगठन चल रहे हैं उन पर भी अंकुश लगना चाहिए। जो लोग पत्रकार नहीं भी होते हैं यह संगठन के पदाधिकारी मठाधीश उनको अपने संगठन का आइडी कार्ड जारी कर देते हैं और लोग वसूली में लग जाते हैं। सरकार को यह भी चाहिए कि पत्रकारिता के नाम पर जो संगठन चल रहे हैं उनकी बारीकी से जांच हो।
पत्रकार नितिन दुबे की फेसबुक वॉल से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here