Rahul Gandhi

राहुल गांधी हाल ही में देश की सबसे बूढ़ी पार्टी के अध्यक्ष चुने गए है |जिस समय उन्हे अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी मिली है|इस समय पार्टी अपने दौर के समय बुरे समय से गुजर रही है|खैर राहुल गांधी को ये जिम्मेदारी तो मिलना तय ही थी|और मिले भी क्यों उनका हक जो बनता है|राजीव गांधी की मौत के बाद जो इमोशनलीआघात राहुल और उनकी मां को लगा वो असहनीय था|लेकिन जिस तरह सोनिया जी ने पार्टी और अपने परिवार को संभाला और बकायदा 19 साल तक कांग्रेस के उच्चतम पद पर बनी रही और बार सत्ता मे काबिज रही|लेकिन अब सारा दरोमदार राहुल गांधी के कंधों पर है|वहीं राहुल जिन्हे विरोधी पार्टी पप्पू,और न जाने और भी क्या-क्या कहते है|यही से पप्पू कहलाने वाले राहुल अब  से पावर मे दिखाई दे है|अब कई गुना ऊर्जा के साथ दिख रहे है|औरभाजपा पर लगातार हमले कर रहे हैं|पहलेमुद्दों से भटकने वाले राहुल अब सवाल भी पूछने में भी आगे हो गएहैं| अपने अमेरिका में दिए गए प्रभावी भाषणों ने राहुल को गजब का आत्मविश्वास दिया| औरगुजरात में भाजपा के विकास के वादे का मजाक उड़ाता कांग्रेस का एक सोशल मीडिया अभियानविकास गंडो थायो छे्यखूब वायरल हुआ|जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स‘ कहकर सुर्खियां बटोर तो अमित शाह के बेटे जय काचतुराई से शाह-जादा‘ कह कर मजाकबनाया|..और राहुल अब विकास और भ्रष्टाचार की बात करत है|औरअब वह भी जुमलेबाजी और लोगों के सामने अपन पक्ष रखने मेंमाहिर होते जा रह है|अगर बात करें राहुल के पैरामीटर की तो राहुल अपने सर्वोच्च पर हैऔर काग्रेस अपने निम्न पर|यहीं नहीं राहुल गांधी कई जगह यूथ को इंस्पायर भी करते है|क्योंकि ये सहज नहीं है|की जब राहुल पर पारिवारिक हमले हुए और अपनी पार्टी के निम्न स्तर पर हो|तब इतनी बड़ी विरासत मिली हो| उन्होने किस तरह उस समय के राहुल और अब के राहुल में जो परिवर्तन आये वह सराहनीय हैं|साल 2013में कांग्रेस उपाध्यक्ष नियुक्त होने के बाद उन्होंने सत्ता को जहर बताया था|लेकिन अब राहुल गांधी वहीं जहर पीने को तैयार हैं|राहुल ने जिस तरह से गुजरात चुनाव में पीएम मोदी से जो विकास के सवाल दागे…और गुजरात के विजन को लेकर जबाव मांगा साथ ही पीएम को नीच कहने वाले अय्यर को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से बर्खास्त करना |इससे राहुल गांधी का विजन दिखता है|और उनकी स्पष्ट और स्वच्छ छवि भी दिखाई देती हैं |वहीं इसी तरह राहुल गांधी ने दोषी राजनेताओं को अयोग्य ठहराने वाले अपनी ही पार्टी के प्रस्तावित अध्यादेश को “कंप्लीट नॉनसेंस‘ करार देते हुए अध्यादेश की कॉपी फाड़ दी |अब राहुल गांधी को युवा सोच के साथ लेकर चलना होगा साथ ही सोशल मिडिया पर अपनी पैठ बनाकर रखनी होगी|राहुल जी आपको कुछ ऐसा करनाहोगा|जो आपकी दादी ऩेकर दिखाया था|…हमारी अपार शुभकामनाएं राहुल गाँधी के साथ हैं.

राजकुमार की कलम से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here