क्या आपको पता है आज यानी 23 अगस्त को वड़ा पाव दिवस मनाया जाता है

0
114
वड़ा पाव की शुरूआत 1966 में अशोक वैद्य वड़ा पाव थेला से हुई, जो कि दादर स्टेशन के बाहर की ओर स्थित था. इन्होंने ही सबसे पहले चटनी के साथ क्रीस्पी गर्म वड़ा और पाव लोगों की भूख भगाने के लिए पेश किया था. वडा पाव वैसे तो महाराष्ट्र की डिश है. जिसे इंडियन बर्गर भी कहते हैं. ये वडा पाव सच में बड़ा है.
अगर हम आगे जाएं तो देखेंगे कि वड़ा पाव की जड़े पूरे विश्व में फैल चुकी हैं. पाव का मुख्य मूल पूर्तगाल से संबंध रखता है, पटेटो वड़ा भारत में डच द्वारा लाया गया. लेकिन हां, पाव, वड़ा और चटनी को आपस में बांधने का पूरा श्रेय मुंबई को ही जाता है और तब से मुंबई के लोगों द्वारा इसे स्नैक्स की तरह पसंद किया जाने लगा.
यहां तक की, वड़ा पाव मुंबई में इतना फेमस हो गया कि साल की हर 23 अगस्त को वड़ा पाव दिवस के रूप में मनाया जाता है.
वड़ा पाव बनाने की रेसिपी
सबसे पहले आलू कद्दूकस कर लें.और अदरक, लहसुन और हरी मिर्च को मिक्सी में पीसकर पेस्ट बना लें. कड़ाही में तेल गर्म करें. इसमें राई का तड़का लगाएं. अब हरी मिर्च का पेस्ट डालें. इसके बाद कड़ाही में आलू, लाल मिर्च, हल्दी पाउडर और नमक डालकर मिक्स करें. इसे एक मिनट तक हल्की आंच पर पकाएं.अब आलू में धनिया पत्ते और नींबू रस डालकर मिलाएं और गैस बंद कर दें.एक बर्तन में बेसन छानें. इसमें थोड़ा नमक, लाल मिर्च पाउडर और थोड़ा-थोड़ा पानी डालकर गाढ़ा घोल तैयार कर लें.इसके बाद आलू के मिक्सचर से छोटे-छोटे बॉल बना लें. गैस पर कड़ाही में तेल गर्म करें. आलू के बॉल्स को बेसन के घोल में डुबोकर निकालें, फिर इसे तेल में डालकर मध्यम आंच पर हल्के ब्राउन होने तक फ्राई कर लें. गैस पर नॉन स्टिक तवा गर्म करें. पाव में बीच से कट लगाएं और तवे पर थोड़ा तेल डालकर पाव को चारों तरफ से सेंक लें.इसके बाद पाव के बीच में आलू वड़ा रखें. इस तरह तैयार है मुंबई स्पेशल वड़ा पाव इसे चटनी, सॉस व तली हुई हरी मिर्च के साथ सर्व करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here