चुनावी साल में बैगा आदिवासियों को सौगात

शहडोल के शालपुर में आयोजित विशाल बैगा सम्मेलन में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कई घोषणाएं.
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि, बैगा परिवार वर्षों से जिस जमीन पर काबिज हैं, उन्हे उसका मालिकाना हक दिया जायेगा. वन भूमि पर वर्षों से काबिज बैगा परिवारों को हटाया नहीं जायेगा. ऐसे परिवारों को भूमि का पट्टा देने के लिये विशेष अभियान चलाया जायेगा.

वनाधिकार अधिनियम के तहत जिन बैगा परिवारों को भूमि आवंटित की गई है, उनके खेतों में कुओं का निःशुल्क निर्माण करवाया जायेगा, उन्हें डीजल पंप भी उपलब्ध करवाया जायेगा.

प्रदेश के सभी बैगा परिवारों के लिये आगामी दो वर्षों में पक्के मकान बनाये जायेंगे. मुख्यमत्री ने कहा कि बैगा भाषा को संरक्षित करने के लिये बैगा भाषा के शिक्षक नियुक्त किए जाएंगे.

बैगा संस्कृति को अक्षुण्य बनाये रखने के लिये डिण्डौरी में बैगा सांस्कृतिक केंद्र स्थापित किया जायेगा. सीएम चौहान ने बैगा समाज के लोगों से अपील कि, वे अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दें, उन्हें आगे बढ़ने के लिये प्रेरित और प्रोत्साहित करें.
उन्होने कहा कि, गांवों को स्वच्छ बनायें, शराब जैसी बुराईयों से दूर रहें.

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, यह सम्मेलन बैगा आदिवासियों की जिंदगी को बदलने का प्रयास है. उन्होने कहा कि बैगा समाज के लोग बहुत सरल, सौम्य और मेहनतकश होते हैं. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने बैगा आदिवासियों की जिंदगी को सँवारने का संकल्प लिया है. मुख्यमंत्री ने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार बैगा आदिवासियों के सर्वांगीण विकास के लिये प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है. प्रदेश की सभी बैगा बस्तियों में दिसम्बर माह के अंत तक बिजली पहुँचाई जायेगी ताकि सभी बैगा परिवारों के घर रौशन हो सकें.

उन्होने कहा कि बैगा युवाओं को आईटीआई में निःशुल्क प्रशिक्षण दिलवाकर उनके कौशल को तराशा जायेगा.

वहीं मुख्यमंत्री ने बैगा सम्मेलन में 18 करोड़ 21 लाख 36 हजार रुपये लागत के निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया. साथ ही 49 करोड़ 44 लाख 27 हजार रुपये लागत के निर्माण कार्यों की आधारशिला रखी. इस अवसर पर बैगा समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री चौहान का पारम्‍परिक बैगा पोषाक पहनाकर स्वागत किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here