बाप को 10 तो बेटी को 7 साल की सजा !

0
130
लंदन के ऐवियन फील्ड में चार फ्लैट को लेकर हुए भ्रष्टाचार मामले में पाकिस्तानी अकाउंटेबिलिटी कोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को 10 साल कैद और करीब 73 करोड़ रुपये जुर्माने की सज़ा सुनाई है. वहीं, उनकी बेटी मरियम नवाज़ को 7 साल कैद के साथ 18 करोड़ जुर्माने और दामाद कैप्टन सफदर को 1 वर्ष कैद की सज़ा हुई है. वहीं इस फैसले से पूरे परिवार पर राजनैतिक कैरियर पर संकट पैदा हो गया. नवाज के दोनों बेटे भगोड़ा घोषित किया गया है और अब नवाज की बेटी मरियम भी चुनाव नहीं लड़ पाएंगी. नवाज और उनकी बेटी फिलहाल लंदन में हैं जहां उनकी पत्नी कुलसुम नवाज के कैंसर का इलाज चल रहा है
जुलाई 2017 में पाक की सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर लीक मामले में नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार का दोषी माना था और उनके चुनाव लड़ने पर आजीवन रोक लगा दी थी. इसके बाद नवाज शरीफ ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. अब बेटी मरियम के चुनाव लड़ने पर चुनाव आयोग ने पाबंदी लगा दी है. जियो न्यूज के मुताबिक, आयोग ने कहा है कि, मरियम का नाम बैलट पेपर से भी हटा दिया जाएगा. और अब उनके पति सफदर भी चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. सफदर को जांच में सहयोग न करने के लिए दोषी ठहराया गया है. 44 साल की मरियम नवाज ने 2012 में राजनीति में कदम रखा था.  2013 के आम चुनाव में पिता नवाज की सीट पर चुनाव कैंपेन की जिम्मेदारी निभाई थी.
बता दें कि, नवाज और मरियम इस केस में 10 महीने में करीब 80 बार कोर्ट में पेश हुए, उनसे 127 सवाल पूछे गए. पनामा पेपर केस में हुए खुलासों के बाद दायर तीन मामलों में से पहले केस में नवाज के खिलाफ फैसला आया है. नवाज के भाई शहबाज ने कहा कि, हम इंसाफ के लिए कानूनी लड़ाई लड़ेंगे. कोर्ट के इस फैसले के बाद मरियम और उनके पति सफदर 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव में नहीं लड़ पाएंगे. जिससे दोनों के राजनैतिक कैरियर पर संकट खड़ा हो गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here