बिटकॉइन वर्चुअल करन्सी को लेकर RBI ने चेताया

देश की जीडीपी की वृद्धि दर बढ़कर 7.4 प्रतिशत रहने के आसार

RBI ने पहली द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए अपनी प्रमुख ब्‍याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है यह चौथी बार है जब रिजर्व बैंक ने ब्‍याज दरें यथावत रखी हैं.

देश की जीडीपी की वृद्धि दर बढ़कर 7.4 प्रतिशत पर

रिजर्व बैंक ने मौजूदा वित्त वर्ष में महंगाई दर का अनुमान घटाकर 4.7 चार प्रतिशत से 5.1प्रतिशत कर दिया है. भारतीय रिजर्व बैंक का ये भी अनुमान है कि चालू और वित्त वर्ष में देश की जीडीपी की वृद्धि दर बढ़कर 7.4 प्रतिशत पर पहुंच जायेगी. आरबीआई का मानना है कि निवेश गतिविधियों में सुधार आयात तथा पूंजीगत वस्तुओं के उत्पादन में बढ़ोतरी से अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ेगी. वहीं डेटा सिक्योरटी के मद्देनजर रिजर्व बैंक ने पेमेंट सिस्टम ऑपरेटर्स को डेटा भारत में ही रखने का आदेश दिया है. डीजीटल पेमेंट में जनता का विश्वास बनाये रखने के लिए आरबीआई ने ये कदम उठाया है.

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल की अध्‍यक्षता में मौद्रिक नीति समिति की बैठक आयोजित की गई. RBI ने बैंकों को लघु अवधि ऋण देने की रेपो दर 6 प्रतिशत और बैंकों से धन लेने की रिवर्स रेपो दर को 5.75 प्रतिशत पर बनाये रखा है.
मौद्रिक नीति समीक्षा समिति की अगली बैठक अब पांच और छह जून को होगी.

वहीं सरकार ने वित्‍त वर्ष 2018-19 में पहली द्विमासिक मौद्रिक नीति की समीक्षा का स्‍वागत किया है

रिजर्व बैंक ने सभी नियमित बैंक संस्थाओं को निर्देश दिये कि वे बिटकॉयन जैसी वर्चूअल करेंसी में कारोबार करने वाले लोगों को सेवायें उपलब्ध न करायें. ऐसा उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा और मनी लॉडरिंग पर रोक लगाने के लिये किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here