भारतीय शेयर मार्केट लगभग 20 महीने से बियर मार्केट (Bear Market) की तरह कार्य कर रहा है। इस समयावधि में भारतीय शेयर मार्केट में बियर (Bear) अर्थात् मंदी की स्थिति बनी हुई है।

  • बियर मार्केट के दौरान शेयर की कीमतें लगातार गिरती हैं, जिसके परिणामस्वरूप निवेशकों का शेयर मार्केट में निवेश कम कर दिया जाता है।
  • बियर मार्केट के दौरान अर्थव्यवस्था में विकास दर धीमी हो जाती है और बेरोज़गारी बढ़ जाती है क्योंकि कंपनियाँ श्रमिकों को काम देना बंद कर देती हैं।
  • इस समय लोग खरीदने की तुलना में बेचना पसंद करते हैं इसलिये आपूर्ति की तुलना में मांग काफी कम होती है और परिणामस्वरूप कीमतों में गिरावट आ जाती है।
  • इस समय शेयर मार्केट नकारात्मकता की स्थिति में रहता है क्योंकि निवेशक अपने पैसे को इक्विटी से निकालकर निश्चित-आय प्रतिभूतियों (Fixed-income Securities) में स्थानांतरित कर देते हैं।
  • बियर मार्केट के दौरान अधिकांश व्यवसाय भारी मुनाफे को दर्ज करने में असमर्थ होते हैं क्योंकि उपभोक्ता पर्याप्त खर्च नहीं कर रहे होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *