‘मन की बात’ में राम और रामायण की बात

किसानों के लिए ये कहा

0
104

पीएम नरेंद्र मोदी ने रेडियो के जरिये 43वीं बार देशवासियों से मन_की_बात की.

पीएम मोदी के मन_की_बात कार्यक्रम की मुख्य बातें…

उन्होंने कहा कि, ‘आयुष्मान भारत’ तभी होगा जब ‘आयुष्मान भूमि’ होगी और ‘आयुष्मान भूमि’ तभी होगी जब हम इस भूमि पर रहने वाले प्रत्येक प्राणी की चिंता करेंगे.

जीवन स्वस्थ हो इसके लिए पहली आवश्यकता है स्वच्छता. स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत दोनों एक-दूसरे के पूरक हैं.

राम और रामायण, न सिर्फ़ भारत में अपितु आसियान देशों में, आज भी उतनी ही प्रेरणा और प्रभाव पैदा कर रहे हैं.

संस्कृत के ऑनलाइन प्रसार के लिए अपने सुझाव साझा करने को कहा.

योग करें और पूरे परिवार, मित्रों, सभी को, योग के लिए अभी से प्रेरित करें.

एक ऐसा भारत जो अम्बेडकर का है, ग़रीबों का है, पिछड़ों का है वही NewIndia की सच्ची तस्वीर है.

किसानों को फसल की उचित क़ीमत मिले इसके लिए देश में AgricultureMarketingReform पर भी बहुत व्यापक स्तर पर किया जाता रहा है

देश के 22 हज़ार ग्रामीण हाटों को ज़रुरी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के साथ इटीग्रेट किया जा रहा है.

किसानों को फसलों की उचित क़ीमत दिलाने के लिए यह तय किया गया है कि अधिसूचित फसलों के लिए MSP, उनकी लागत का कम-से-कम डेढ़ गुणा घोषित किया जाएगा.

बाबा साहब अम्बेडकर ने भारत के शहरीकरण पर भरोसा जताया, बाबा साहब का आत्मनिर्भरता में दृढ़ विश्वास था.

इस वर्ष महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती-वर्ष के महोत्सव की शुरुआत होगी, हम सबको मिलकर बापू को एक यादगार श्रद्धांजलि देनी है, देश कैसे यह उत्सव मनाएं MyGov के माध्यम से अपने विचार शेयर करने को कहा.

हर किसान को दूरदर्शन के DDKisanChannel से जुड़ना चाहिए, उसे देखना चाहिए और वहां से सीखी चीजों और प्रयोगों को अपने खेत में लागू करना चाहिए.

पीएम मोदी ने कहा कि, उम्मीदों से भरा एक आत्मविश्वास का सकारात्मक माहौल बना है. यही आत्मविश्वास, यही सकारात्मकता, NewIndia का हमारा संकल्प साकार करेगी, सपना सिद्ध करेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here