संजू से ज्यादा संघर्ष किया है संदीप सिंह ने, बहुत कुछ सिखाती है सूरमा

0
270
फिल्म सूरमा 13 जुलाई को रिलीज हो गई है.सूरमा में तापसी पन्नू और अंगद बेदी ने भी काम किया है.एक्टर-सिंगर दिलजीत दोसांझ को पंजाबी फूड बेहद पसंद है, लेकिन ‘सूरमा’ के लिए दिलजीत ने खाना छोड़ कर एथलीट जैसी बॉडी बनाने काफी मेहनत की थी.दिलजीत ने खुद को पूरी तरह से एथलीट में बदल लिया था. असली सूरमा तो ये है. संदीप सिंह यानी भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान, जिनके जीवन पर ये पूरी फिल्म है.
संदीप सिंह का जन्म 27 फरवरी को साल 1986 में हुआ था.वह हरियाणा में कुरुक्षेत्र से हैं.भारतीय हॉकी टीम में शामिल होने के बाद संदीप सिंह के साथ एक हादसा हो गया था.वह जर्मनी में होने वाले वर्ल्डकप से पहले टीम में शामिल होने के लिए दिल्ली जा रहे थे और तभी दुर्घटनावश वह एक रेलवे सुरक्षा अफसर की गोली का शिकार हो गए.इसके2 साल तक संदीप लगभग लकवाग्रस्त अवस्था में व्हील चेयर पर रहे.लेकिन संदीप सिंह ने अपनी सशक्त इच्छा शक्ति की बदौलत 2 साल तक संघर्ष करने के बाद संदीप सिंह ने हॉकी के मैदान में दोबारा वापसी की.वापसी करने के बाद ‘सुल्तान अजलान कप’ में संदीप सिंह की मौजूदगी में भारत ने दमदार प्रदर्शन किया.

इसे भी पड़े : #INDvsENG: Is it end of roads for Ashwin & Jadeja in Test after Kuldeep assult on England

साल 2009 में संदीप सिंह को भारतीय हॉकी टीम का कप्तान घोषित किया गया.बाद में वह भारतीय पेनल्टी कॉर्नर स्पेशलिस्ट और दुनिया के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर के तौर पर भी चर्चित हुए.हॉकी में विशेष उपलब्धियों के लिए भारत सरकार ने संदीप को 2010 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया.वर्तमान में वह हरियाणा पुलिस विभाग में डीएसपी रैंक पर कार्यरत हैँ. अब उनकी यही कहानी दर्शकों को परदे पर देखने को मिलेगी.संदीप सिंह की बायोपिक को लेकर लोगों में काफी उत्साह है.

इस फिल्म में खुद संदीप सिंह ने दिलजीत को ट्रेनर के तौर पर अपनी तरह हॉकी खेलने की ट्रेनिंग दी.दिलजीत के ट्रांसफॉर्मेशन को उनकी पुरानी फोटोज में देखा जा सकता है.उसे पूरी तरह छोड़कर एथलीट वाली हेल्दी डाइट ली.जिमिंग और वर्कआउट के जरिए सिक्स पैक एब्स भी बनाए. संदीप की तरह ड्रैग फ्लिकर बनने के लिए दिलजीत ने एक महीने तक रोजाना हॉकी स्टिक पकड़ने, मैदान में खड़े होने, शॉट लगाने और ड्रैग फ्लिक करने की प्रैक्टिस की.

संदीप खुद दिलजीत को 12 घंटे, अंगद को 3 घंटे और तापसी पन्नू को भी 4-5 घंटे तक हॉकी की प्रैक्टिस करवाते थे.दिलजीत ने सुबह जल्दी उठने और सोने का रुटीन बनाया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here