‘हनुमान जयंती’ आज! इस विधि से करें पूजन

0
129

हनुमान जयंती आज यानि 19 अप्रैल को मनाई जा रही है. चैत्र शुल्क पक्ष की पूर्णिमा के दिन श्री हनुमान जयंती मनाई जाती है. इस दिन भगवान शिव के 11वें रुद्रावतार यानी श्री हनुमान जी का जन्म हुआ था.

🌻 इस दिन हनुमान जी की पूजा करने से साधक को विशेष लाभ प्राप्‍त होता है. लेकिन ऐसी मान्यता है कि हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी से जुड़ी कोई भी अराधना साधक या भक्त को अति विशेष फल प्रदान करती है.

🌟 हनुमान जयंती के दिन यदि आप श्री हनुमान से अपनी सारी मनोमाना पूर्ण करवाना चाहते हैं तो उनके मंदिर में संपूर्ण चोला, पान और सिंदूर चढ़ाइये. हनुमान जी को सिंदूर का चोला चढ़ाने से एवं मूर्ति का स्पर्श करने से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है.

💁‍♂ *हनुमान जी की जन्म कथा*
हनुमान जी के जन्म के बारे में पुराणों में जो उल्लेख मिलता है उसके अनुसार अमरत्व की प्राप्ति के लिये जब देवताओं व असुरों ने मिलकर समुद्र मंथन किया को उससे निकले अमृत को असुरों ने छीन लिया और आपस में ही लड़ने लगे. तब भगवान विष्णु मोहिनी के भेष अवतरित हुए. मोहनी रूप देख देवता व असुर तो क्या स्वयं भगवान शिवजी कामातुर हो गए. इस समय भगवान शिव ने जो वीर्य त्याग किया उसे पवनदेव ने वानरराज केसरी की पत्नी अंजना के गर्भ में प्रविष्ट कर दिया. जिसके फलस्वरूप माता अंजना के गर्भ से केसरी नंदन मारुती संकट मोचन रामभक्त श्री हनुमान का जन्म हुआ.

🕜 *हनुमान जंयती का शुभ मुहूर्त*
● 19 अप्रैल को दोपहर 12:01 से 12:52 बजे तक
● दोपहर 01:35 से 03:05 बजे तक
● दोपहर 2:33 से 03:24 बजे तक

✨ *पूजा विधि-*
● इस दिन साफ और स्वच्छ कपड़े पहनें और पूर्व दिशा की ओर भगवान हनुमानजी की प्रतिमा को स्थापित करें.
● एक साफ चौकी पर लाल कपड़ा बिछाए और उस पर हनुमा जी की तस्‍वीर या मूर्ति रखें.
● उनके आगे दीया और धूप जलाएं.
● हनुमान जी को लाल रंग के फूल चढ़ाएं.
● इसके बाद उन्‍हें लड्डू चढ़ाएं और तुलसी दल भी अर्पित करें.
● अब श्री राम के मंत्र ‘राम रामाय नमः’ का जाप करें. फिर हनुमान जी के मंत्र “ॐ हं हनुमते नमः” का जाप करें.
● फिर बेहद शांत मन से हनुमान जी की पूजा करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here